B.com Full Form in Hindi – बी कॉम का फूल फॉर्म और पूरी जानकारी

नमस्ते दोस्तों स्वागत है आपका हमारी पोस्ट B.com Full Form in Hindi में आज की ये पोस्ट खास उन लोगों के लिए है जो 12th के बाद बीकॉम करने की सोच रहे है

यदि आप बीकॉम करना चाहते है और उसके बारें में सारी जानकारी जानना चाहते है तो आपको कहीं और जाने की जरूरत नहीं है क्योंकि इस पोस्ट में आपको बी कॉम के बारे में सारी जरूरी जानकारी मिल जाएगी

बी कॉम का फूल फॉर्म  | B.com Full Form in Hindi

Table of Contents

B.com के बारे में जानने से पहले हम आपको ये बता देते है की बी कॉम की फूल फॉर्म क्या होती है बी कॉम की फूल फॉर्म अंग्रेजी में Bachelor of commerce होती है तथा B.com ka full form हिंदी वाणिज्य में स्नातक होता है इसकी फूल फॉर्म जानने के बाद अब हम आपको बताते है की बी कॉम क्या है और इसे कैसे कर सकते है

बी कॉम क्या है | what is B.com

Bachelor of commerce जिसे short फॉर्म में B.com भी कहा जाता है एक स्नातक डिग्री है जो की 12 के बाद इसका पूरा कोर्स किए जाने के बाद मिलती है

इस कोर्स में आपको commercial यानि वाणिज्य में शिक्षा दी जाति है जिससे उनकी इस विषय में knowledge बढ़ती है ज्यादातर विधियार्थी जिन्होंने 12वी में Math या commerce ली हो वही बी कॉम के कोर्स के लिए अप्लाइ करते है

लेकिन कुछ arts और science के छात्र भी 12 वी के बाद बी कॉम करने का निर्णय करते है क्योंकि ये एक लोकप्रिय डिग्री है जिसमे रोजगार के बहुत साधन है और इस कोर्स को करने के बाद आपको नोकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है

आगे हमे आपको बताएंगे की बी कॉम का कोर्स कैसे कर सकते है तथा इसमे कौन कौन से सब्जेक्ट होते है और इस कोर्स को करने के बाद आप आगे क्या कर सकते है

बी कॉम का कोर्स कितने साल का होता है – (B.com Full Form in Hindi)

जैसे की हमने पहले बताया है की बी कॉम में तीन कोर्स आते है जिसमे से बी कॉम और बी कॉम होनर्स का कोर्स तीन साल का होता है

जिसमे 6 सिमेस्टर होते है एक सिमेस्टर 6 महीने का होता है जबकि बी कॉम अल अल बी का कोर्स 5 साल का होता है जिसमे 10 सिमेस्टर होते है बी कॉम के समेस्टरों के बारे में हमने आगे विस्तार में बताया है

इसे भी पढे – MBA की फूल फॉर्म क्या होती है 

Types of B.com | बी कॉम कोर्स के प्रकार –

बी कॉम में तीन तरह के कोर्स होते है हर कोर्स में अलग अलग विषय के संबंधित जानकारी दी जाती है हमने बी कॉम के तीन कोर्स और इनके बारे में पूरी जानकारी नीचे दी है

  • B.com
  • B.com (Honours)
  • B.com (LLB)

1.B.com –

बी कॉम यानि बैच्लर ऑफ कॉमर्स एक बहुत ही लोकप्रिय डिग्री है जिससे बहुत से विधार्थी 12 वी के बाद करना पसंद करते है इसमे आपको नीचे दिए गए विषय के बारे में पढ़ाया जाता है

  • Accountancy
  • Economics
  • Mathematics
  • Computer
  • Business communication
  • English, cost & works accounting.
  • Banking & financial systems
  • Entrepreneurship

2.B.com Honours –

बी कॉम होनर्स भी एक बहुत ही अच्छी डिग्री है ये भी बी कॉम के बराबर ही होती है और इसमे कोर्स को भी पूरा करने में तीन साल लगते है

ये खास तोर पर उन लोगों के लिए बना है जो की Chartered Accountancy (CA) या Company Secretary (CS) बनना चाहते हैं

3.B.com LLB

ये कोर्स बी कॉम के बाकी कोर्स की तुलना में थोड़ा बड़ा होता है इस कोर्स को करने में 5 साल का समय लगत है ये कोर्स वो विधियार्थी करते है जो वकील बनना चाहते है इस कोर्स में निम्नलिखित सब्जेक्ट है

  • Auditing
  • Economics
  • Business communication
  • statistics
  • constitution law
  • consumer protection law
  • Legal language
  • law of contract

इस कोर्स के अंत तक आप एक वकील बन चुके होते है जो बार कौंसिल एग्जाम देने योग्य हो जाता है तथा प्रैक्टिस लॉयर के तौर पर काम करता है

इसमें कोर्स में आपको कुल 10 सेमेस्टर पास करने होते हैं और बाद में सेमेस्टर में आपको अपनी विशेषज्ञता चुनने के लिए मिलता है जिसमें आप की कानूनी डिग्री पूरी होती है

Also Read this – BBA का फूल फॉर्म हिंदी में 

बी कॉम के कितने सेमेसटोर होते है –

जैसा की हमने पहले बताया है की बी कॉम के 6 समेसटोर होते है एक एक सेंसटोर 6 महीने का होता है हर समेसटोर में लगभग आपको एक जैसा ही विषय मिलेगा लेकिन दूसरे समेस्टर में पढ़ाई थोड़ी उच्च स्तर की होगी

1.पहला सेमेस्टर का सिलेबस

बच्चों के कौशल विकास और नींव पर बी कॉम के पहले समेसटोर में ध्यान दिया जाता है और  जिसमे आपको 6 विषय को पढ़ना होता है जिनमे से चार विषय जरूरी होते है बाकी एक के 2 additional होते है

  • व्यावसायिक अर्थशास्त्र
  • निगमित लेखांकन
  • अंग्रेजी और व्यवसाय
  • संचार अंतःविषय ई-कॉमर्स
  • व्यापार कानून
  • मानव संसाधन प्रबंधन
  • पर्यावरण, सड़क

2.दूसरा सेमेस्टर का सिलेबस

बी कॉम के दूसरे सेंसटोर में भी आपको पहले सेमेसटोर से मिलते जुलते विषय पढ़ाए जाते है लेकिन वो पहले सेमेस्टर की तुलना में थोड़े अड्वान्स होते है इन विषयों की सूची नीचे दी गई है –

  • निगमित लेखांकन
  • व्यापार कानून
  • अंग्रेजी और व्यवसाय
  • संचार अंतःविषय ई-कॉमर्स
  • व्यावसायिक अर्थशास्त्र
  • मानव संसाधन प्रबंधन
  • पर्यावरण, सड़क

3.तीसरे सेमेस्टर का सिलेबस –

तीसरे सेमेस्टर में आपको पहले के दो सिमेस्टर के विषय के साथ-साथ माइक्रो इकोनॉमिक्स और कॉरपोरेटेड अकाउंटिंग भी पढ़ाया जाता है जिसमे निम्नलिखित विषय आते है –

  • बिज़नेस मैथमेटिक्स और स्टेटिस्टिक्स
  • इनडायरेक्ट टैक्स
  • इंटरडिस्कप्लिनरी इश्यूज इन इंडियन कॉमर्स
  • बैंकिंग और इंश्योरेंस
  • कॉस्ट एकाउंटिंग
  • कंपनी लॉ

4.चौथे सेमेस्टर का सिलेबस –

बीकॉम के चौथे सेमेस्टर में पढ़ाई के लिए दो समूह में होते है जिसमे से  पहले समूह में आपको कुल 7 विषय पढ़ने होते हैं तथा दूसरे समूह में दो विषय होते हैं जिनको आपको पढ़ना होता है

  • मार्केटिंग मैनेजमेंट
  • क्वांटिटेटिव टेक्निक्स और मेथड्स
  • ऑडिट और सेक्रेटेरियल प्रैक्टिस
  • कॉस्ट मैनेजमेंट
  • इंटरडिस्कप्लिनरी सिक्योरिटी एनालिसिस एंड पोर्टफोलियो मैनेजमेंट
  • एडवांस्ड एकाउंटिंग

5.पांचवे सेमेस्टर का सिलेबस –

बीकॉम के पांचवें सेमेस्टर में आपको कुल 6 विषय के बारे में पढ़ना होता हैं जिनमे से पांच विषय सबके लिए जरूरी होते है तथा उन्मे से एक विषय ऑप्शनल होता है जिसमे से आप कोई भी चुन सकते है

  • फाइनेंशियल मार्केट्स और सर्विसेज
  • इनकम टैक्स लॉ  
  • मैनेजमेंट प्रोडक्शन
  • प्रोडक्शन और ऑपरेशन मैनेजमेंट
  • एंटरप्रेन्योरशिप और स्माल बिज़नेस
  • भारतीय अर्थव्यवस्था

6.छठवें सेमेस्टर का सिलेबस –

बीकॉम के 6 वे सेमेस्टर में भी आपको कुल 6 विषय को पढ़ना होता है जिनमे से 5 जरूरी होते है और एक ऑप्शनल होता है

  • भारतीय अर्थव्यवस्था के क्षेत्रीय पहलू
  • प्रत्यक्ष कर कानून
  • सामाजिक और व्यावसायिक नैतिकता
  • आपरेशनल रिसर्च
  • वित्तीय प्रबंधन
  • वित्तीय रिपोर्टिंग में मुद्दे

बी कॉम के लिए योग्यता (B.com Full Form in Hindi)

आप ये तो संह गए होंगे की बी कॉम का कोर्स क्या है तथा इसमे कौन कौन से कोर्स होते है अब हम आपको बताते है

की यदि आप बी कॉम का कोर्स करने चाहते है तो आपमे क्या योग्यता होनी चाहिए आपको बीकॉम का कोर्स करने के लिए निम्नलिखित योग्यता चाहिए होती है

  • आप 12 वी पास हो वो भी commerce या science स्ट्रीम में या फिर अपने 12 वी में math लिया हो
  • बी कॉम के कोर्स के लिए 12 वी में आपके 45% से ज्यादा नंबर होने चाहिए
  • 10th के बाद इस कोर्स को करने के लिए आपके पास 2 या 3 साल का एक डिप्लोमा होना चाहिए

बी कॉम कोर्स कैसे कर सकते है (B.com Full Form in Hindi)

इस कोर्स को आप 2 तरीकों से कर सकते यही private और regular यानि की यदि आप चाहे तो इसे प्राइवेट भी कर सकते है जिसमे आपको रोजाना कॉलेज जाने की कोई जरूरत नहीं होती लेकिन यदि आप रेगुलर में बी कॉम करते है तो आपको रोज कॉलेज जाना होगा

बी कॉम के सब्जेक्ट –

B.com के सेंसटोर के बारे में हमने आप को बता दिया है अब आप ये जान ले की बी कॉम में कौन कौन से सब्जेक्ट होते है जो की आपको करने होते है –

  • Business Economics
  • Business Organisation and Management
  • Environmental Studies
  • Corporate Accounting
  • Marketing Management
  • Human Resource Management
  • Banking and Insurance
  • Income Tax Law and Practice
  • Cost Accounting
  • Business Communication
  • Business Mathematics
  • Financial Accounting
  • Auditing and Corporate Governance
  • Business Statistics
  • Business Law

बीकॉम के बाद आप कौन कौन से कोर्स कर सकते हैं

B.com के बाद आप बहुत से कोर्स कर सकते है जिनमे से कुछ कोर्स हमने नीचे दिए है –

  • M com
  • chartered financial.
  • MBA
  • CFA
  • Stock
  • broking
  • LLB
  • Chartered Accountant (C.A)
  • analyst

TOP 5 कॉलेज बी कॉम कोर्स के लिए –

भारत में बी.कॉम का कोर्स करने के लिए कई कॉलेज है जिनमे से टॉप 5 कॉलेज के नाम नीचे दिए गए है –

  1. लोया शिक्षा संस्थान, मुंबई
  2. एसएम शुक्ला कॉलेज, लखनऊ
  3. श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, दिल्ली
  4. स्टेप्स स्टोन कॉलेज, दिल्ली
  5. स्टील प्लांट कॉलेज, नागपुर

बी कॉम कोर्स की फीस कितनी होती है

आपको बता दे की बी कॉम की फीस Government or Private college में अलग अलग होती है जहां सरकारी कॉलेज में 5 से 7 हजार रुपए एक साल के लगते है वहीँ प्राइवेट कॉलेज में 10 हजार से 1 लाख तक रुपए लग जाते है

B.com कोर्स करने के फायदे – (B.com Full Form in Hindi)

बी कॉम कोर्स करने के बहुत से फायदे है लेकिन इसका सबसे बड़ा लाभ यही है की बी कॉम कोर्स करने के बाद आपके लिए नोरकी की संभावना बहुत बड़ जाती है और आपको बहुत ही अच्छी नोकरी भी मिल जाती है जिसमे आपको काफी अच्छी सैलरी पैकेज मिलते है

बी कॉम करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है

जैसा की हमने बताया है की बी कॉम करने के बाद आप कई अलग अलग क्षेत्रों में काम कर सकते है और हर क्षेत्र में आपका सैलरी पैकेज अलग अलग होता है

लेकिन यदि हम आम तोर पर बात करे तो बी कॉम करने के बाद आपकी शूरवाती सैलरी 25 से 30 हजार रुपए तक हो सकती है जो की आपके experience और समय के साथ बढ़ती जाती है

FAQ about B.com Full Form in Hindi

1.B.com की फूल फॉर्म क्या होती है

उत्तर –Bachelor of commerce

2.बी कॉम कोर्स कितने साल का होता है

उत्तर – आपको बता दे की बी कॉम का कोर्स तीन साल का होता है जिसमे 6 सिमेस्टर होते है एक सिमेस्टर 6 महीने का होता है

3.बी कॉम के क्या लाभ है

उत्तर – बी कॉम का सबसे बड़ा लाभ यही है की इसमे जॉब मिलने की संभावना बड़ जाती है और आपको एक अच्छी सैलरी पर जॉब मिलती है

Conclusion –

आशा करते है की दोस्तों हमारी इस पोस्ट B.com Full Form in Hindi में आपको बी कॉम के बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी और bcom ka full form क्या है तथा इस कोर्स को करने क्या फायदे होंगे

इसका भी पता चल गया होगा और मुझे उम्मीद है की बी कॉम से जुड़े जीतने भी सवाल आपके मन में थे उनका जवाब आपको मिल गया होगा यदि फिर भी आप हमसे कुछ पूछना चाहते है तो कमेन्ट में पुच्छ सकते है 

Also Read this –

1. CO का full form हिंदी में 

2. CNG Full form in Hindi 

3. 100+ जानवरों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में 

4. RRR मूवी फूल फॉर्म हिंदी और अंग्रेजी में 

5. PDF Full Form in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top