Best Motivational Story in Hindi | बेस्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी

नमस्ते दोस्तों यदि आप दिल को छु लेने वाली और जिदंगी में सफल बना देने वाली कहानियों की तलाश कर रहे है तो आप बिल्कुल सही जगह आए है इस पोस्ट में आपको ऐसी ही कुछ प्रेरणादायक कहानिया पढ़ने के लिए मिलेगी जो आपकी जिंदगी बदल देंगी (Best Motivational Story in Hindi)

एक राजा और तीन मंत्रियों की कहानी | Best Motivational Story in Hindi

एक बार की बात है एक राजा के दरबार में तीन मंत्री हुआ करते थे वो तीनों मंत्री राजा के बहुत ही खास थे

लेकिन उन्मे से एक मंत्री बहुत ही आलसी और कामचोर होता जा रहा था

वो मंत्री राजा के खजाने के हिसाब किताब में भी गड़बड़ी करता था राजा ने उस कामचोर मंत्री को पकड़ने के लिए एक उपाए सोचा

उसने एक दिन अपने इतनों मंत्रियों को बुलाया और उन तीनों को एक-एक बड़ा बैग दिया और उन्हे कहा की तुम तीनों जंगल में जाकर इस बैग में अच्छे और ताजे फल भर के लाओ

वो तीनों मंत्री राजा का आदेश पाने के बाद जंगल में फल लेने चले गए उन्मे से जो पहला मंत्री था वो बहुत ईमानदार और मेहनती था

उसने राजा के लिए बहुत से अच्छे और ताजे फल बैग में भर लिए जिसके लिए उसे बहुत मेहनत करनी पड़ी लेकिन जो दूसरा मंत्री था वो बहुत चलाक था

उसने सोचा की राजा के पास इतना समय नहीं होता की वो ये देखे की फल ताजे है या नहीं इसलिए उसने नीचे गिरे हुए कच्चे और सड़े हुए फलों को बैग में भरना शुरू कर दिया

Best Motivational Story in Hindi for Students

तीसरा मंत्री बहुत ही आलसी था उसने सोच की राजा कौनसा बैग खोल के देखेंगे की बैग में क्या है उसने बैग में पत्ते और पत्थर भर दिए

शाम को वो तीनों मंत्री अपना अपना काम पूरा करने के बाद महल वापिस आए

राजा ने उनके बैग को खोल के देखा भी नहीं उन्हे 30 दिन के लिए कैद में रखने का आदेश दे दिया

राजा ने कहा की 30 दिनों तक इन तीनों मंत्रियों को कुछ भी खाने के लिए न दिया जाए

उसने कहा की मंत्री 30 दिनों तक वोही फल खाएँगे जो वो जंगल से लेकर आए है

उन तीनों को कैदखाने में अपने अपने बैग के साथ डाल दिया गया अब जिस मंत्री ने राजा के लिए अच्छे और ताजे फल रखे थे

उसने 30 दिनों तक उन फलों को खाकर अपना गुजारा कर लिया लेकिन दूसरे मंत्री ने बैग में कच्चे और सड़े हुए फल रखे थे

जिसके कारण उसे वोही फल खाने पड़े और वो कुछ ही दिनों में बीमार हो गया

तीसरे मंत्री ने अपने बैग में पत्ते और पत्थर डाले थे जिसके कारण उसे कुछ खाने को नहीं मिला और भूख के कारण कुछ दिनों में उसकी मौत हो गई

सिख

ये कहानी हमे सिखाती है की हमे अपने काम को पूरी ईमानदारी और मेहनत से करना चाहिए

जब भी हम कीसी काम में आलस करते है या किसी को धोखा देते है तो हमे उस काम में कभी भी सफलता नहीं मिल सकती

मूर्तिकार की कहानी | Best Motivational Story in Hindi

एक बार की बात है एक राज्य में एक मूर्तिकार रहा करता था जो की बहुत अच्छी मूर्तिया बनाया करता था

उसकी बनाई गई मूर्तियों को लोग बहुत ही अच्छी कीमत में खरीदते थे

एक बार उस मूर्तिकार के पास एक लड़का काम सीखने के लिए आया

वो लड़का मूर्तिकार के काम से बहुत प्रभावित था उस लड़के की उम्र अभी सिर्फ 14 साल थी

मूर्तिकार ने उस लड़के के होसले को देखकर उसको काम सिखाने के लिए तैयार हो गया

जिसके बाद वो लड़का हर दिन उस मूर्तिकार के पास मूर्ति बनाने के काम सीखने के लिए आ जाता

जैसे जैसे समय बीतता गया वो लड़का मूर्ति बनाने में बेहतर होता गया

लेकिन जब भी वो लड़का कोई मूर्ति बनाता तब मूर्तिकार उसकी मूर्ति में कोई न कोई कमी निकाल देता

लेकिन उस लड़के ने कभी भी इस बात की प्रवाह नहीं की बल्कि वो उस गलती को

ठीक करने लगता ऐसा ही काफी सालों तक चलता रहा

अब वो लड़का उस मूर्तिकार से भी अच्छी मूर्ति बना लेता था

लोगों को उसके द्वारा बनाई गई मूर्ति बहुत पसंद अति थी

बेस्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी

वो उसकी मूर्ति को मूर्तिकार की मूर्ति से भी ज्यादा कीमत में खरीदते थे जबकि अभी भी मूर्तिकार की मूर्तियों की कीमत उतनी ही थी

वो लड़का ये देख कर बहुत खुश होता था की उसकी मूर्तिया ज्यादा धामों में बिकती है

लेकिन अभी भी मूर्तिकार उसके द्वारा बनाई गई मूर्ति में कोई न कोई कमी निकाल देता था

एक दिन मूर्तिकार ने जब लड़के के द्वारा बनाई गई मूर्ति में कोई गलती निकाली

तो उस लड़के को गुस्सा आ गया उसने कहा की मेरी मूर्तिया आपकी मूर्तिया से भी ज्यादा कीमत पर बिकती है

इनमे कोई गलती कैसे हो सकती है उस दिन के बाद मूर्तिकार ने लड़के की मूर्तियों में से गलती निकालना बंद कर दिया

फिर कुछ दिनों बाद उस लड़के की मूर्तियों की कीमत गिरने लगी लोगों को अब उसकी मूर्तिया ज्यादा पसंद नहीं आ रही थी वो बहुत परेशान रहने लगा वो सोच रहता था की उससे मूर्ति बनाने में क्या गलती हो रही है

बेस्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी –

फिर एक दिन वो मूर्तिकार के पास गया और उसको सारी बात बताई तब मूर्तिकार ने कहा की मैं जानता था तुम्हारे साथ ऐसे जरूर होगा

मूर्तिकार की बात सुनकर वो लड़का बहुत हैरान हो गया उसने मूर्तिकार से पुच्छा की आप कैसे जानते थे की मेरे साथ ये सब होगा

तब मूर्तिकार ने कहा की जब भी हम अपने हाथों से कोई चीज बनाते है तो हमे लगता है की उसमे कोई गलती नहीं है वो चीज perfect है

लेकिन दूसरे लोग उस चीज में से गलती निकाल लेते है जीसे हम नहीं देख पाते

इसलिए मैं तुम्हारी बनाई गई मूर्ति में गलती निकाल देता था ताकि कोई तुम उसे ठीक कर सको

लड़के को अपनी गलती का एहसास हो गया उसने मूर्तिकार से माफी मांगी और फिरसे मूर्ति बनाने का काम शुरू कर दिया

सिख –

इस कहानी से हमे ये सिख मिलती है की इस दुनिया में कोई भी perfect नहीं होता हम सब लोग थोड़ा स काम सिख जाने पर खुद को perfect समझने लगते है

जबकि हम सब में बहुत कमिया होती है लेकिन हम खुद को perfect समझ कर उन गलतियों को दूर नहीं करते जिसके कारण हम अपनी जिंदगी में सफल नहीं बन पाते

Conclusion –

उम्मीद है की आपको हमारी ये कहानिया पसंद आई होंगे यदि आप ऐसी और भी कहानिया पढ़ना चाहते है तो हमारा टेलग्रैम चैनल जरूर जॉइन करे

Also Read this –

1. Motivational Stories for students in Hindi

2. प्रेरणादायक कहानिया हिंदी में 

3. Motivational Stories in English for students

4.Heart Touching Motivational stories in Hindi

5.Copyright Free Motivational Stories in Hindi 

Leave a Comment