Emotional Motivational story in Hindi | इमोशनल स्टोरी इन हिंदी

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है हमारी इस पोस्ट Emotional motivational story in Hindi में जहां पर आपको दिल को छु लेनी वाली कहानिया हिंदी में मिलेगी जो आपको जिंदगी की सबसे बड़ी सिख देंगी तो इसलिए इन कहानियों को पूरा पढे –

1.एक गधे और किसान की कहानी | Emotional motivational story in Hindi

एक बार की बात है एक गाँव में एक किसान रहा करता था जिसके पास एक गधा था

वो अपने खेतों में फसले उगाता और उन्हे बेचकर अपने घर का गुजारा करता था

अपनी फसलों को गधे के ऊपर रखकर बाजार में बेचने जाता था ऐसे ही उसकी जिंदगी चल रही थी

फिर जैसे जैसे समय बीतता गया वो गधा बूढ़ा होने लगा अब उसमे इतनी ताकत नहीं बची थी

की वो किसान की फसलों को उठा कर बाजार ले जा सके

एक दिन वो गधा किसान के खेतों में घूम रहा था इतने में घूमते-घूमते

वो थोड़ी दूर चला गया तथा रास्ते में एक बहुत ही बड़ा गढ़ा था वो गधा उसमे गिर गया

उसने उस गढ़े से निकलने की बहुत कोशिश की पर वो वहाँ से निकल न सका

वो जोर जोर से आवाजे निकालने लगा वहाँ से किसान के गाँव का एक आदमी गुजर रहा था

तो उसने उस गधे के आवाज सुनी उसने गढ़े के पास आकार देखा की उसमे किसान का गधा गिर गया है

इमोशनल स्टोरी इन हिंदी –

वो भाग के गाँव वालों और किसान के पास गया और उन्हे बुला कर लाया

फिर वो सब गाँव वाले तथा किसान गधे को गढ़े में सी निकालने में लग गए

लेकिन बहुत कोशिशों के बाद भी वो गधे को बाहर न निकाल पाए

फिर किसान ने सोचा की अब वैसे भी ये गधा बूढ़ा हो गया है

इसे बाहर निकालने का भी क्या फायदा होगा फिर उन लोगों ने गधे को

उसी गढ़े में दफनाने का तय कर लिए वो सब लोग गधे के ऊपर मिटी डालने लगे

गधा ये समझ चुका था की उसके साथ क्या होने वाला है इसलिए वो डरकर आवाजे निकालने लगा

किसान भी उस गधे में मिटी डाल रहा था इतने में वो देखता है की गधा उसकी और देख रहा है

किसान देखता है जो भी मिटी वो गधे के ऊपर डाल रहे थे

गधा उसे खिसका कर जमीन पर डाल रहा था जिसकी मदद से वो ऊपर आता जा रहा था

उन्होंने मिटी डालना जारी रखा और गधा उस मिटी को अपने ऊपर से खिसकाता रहा

जिससे वो ऊपर आता गया और फिर वो आसानी से उस गढ़े से बाहर निकल गया

सिख

इस कहानी से हमे ये सिख मिलती है की हमारी जिंदगी में बहुत सी मुशकीले आती है

लेकिन हमे उन मुश्किलों से घबराना नहीं चाहिए बल्कि साहस और ठंडे दिमाग से उसका सामना करना चाहिए

2.मेंढक और मछली की कहानी | Emotional motivational story in Hindi

एक बार की बात है एक कुए में एक मेढक रहा करता था

वो कभी भी उस कुए से बाहर नहीं निकला था उसने अपनी सारी जिंदगी उस कुए में ही रहकर बिताई थी

फिर एक दिन उस कुए में एक मछली आ जाति है मेंढक उस मछली को देखकर पूछता है

की तुम कहाँ से आई हो तो मछली जवाब देती है की वो समुन्द्र से आई है तो मेंढक मछली से पूछता है की ये समुन्द्र क्या होता है

क्योंकि वो कभी उस कुए से बाहर नहीं निकला होता है

इसलिए उसे नहीं पता होता है की समुन्द्र क्या होता है तो मछली उसे बताती है की समुन्द्र में बहुत पानी होता है

तो मेंढक उससे पूछता है की कितना पानी होता है इस कुए जितना मछली कहती है

नहीं इस कुए से भी ज्यादा तो मेंढक एक छलांग लगाता है और फिर मछली से पूछता है

की क्या समुन्द्र में इतना पानी होता है मछली कहती है नहीं इससे जादा होता है

Emotional short story in Hindi | रुलाने वाली कहानी

तो मेंढक उससे भी उची छलांग लगाता है और फिर मछली से पूछता है की अब बताओ की इतना पानी होता है

समुन्द्र में तो मछली कहती है नहीं इससे भी ज्यादा पानी होता है

मेंढक मछली से कहता है की तुम झूठ बोल रही हो इतना पानी कहीं भी नहीं हो सकता

मछली उसे मेंढक से कहती है तो ठीक है तुम मेरे साथ चल के देख लो तुम खुद यकीन हो जाएगा

तो मेंढक मछली के साथ समुन्द्र की और चला जाता है

समुन्द्र में पोहचने के बाद मछली मेंढक से कहती है की ये देखो समुन्द्र इतना बड़ा होता है

मेंढक को अपनी आँखों पर याकिं नहीं हो रहा था क्योंकि उसने कभी भी इतना पानी नहीं देखा था वो चुप चाप खड़ा था

सिख –

इस कहानी से हमे ये सिख मिलती है बहुत से लोगों की सोच उस कुए के मेंढक की तरह होती है

जो की बड़ा सोच ही नहीं सकते और यदि वो कुछ बड़ा सोचेंगे नहीं

तो फिर कुछ बड़ा हासिल कैसे करेंगे इनकी सोच बहुत चोटी है

उनकी सोच उसी कुए में शुरू होती है और वहीं खत्म हो जाती है

Also Read this – Motivational Stories in English for students 

3.एक लड़के के कहानी | Emotional motivational story in Hindi

एक गाँव में एक लड़का रहता था उसे बहुत ही गुस्सा आता था

वो अपने स्कूल में भी सबसे बहुत गुस्से में बात करता था

इसलिए एक दिन उससे तंग आकार उसके स्कूल वालों ने उसे स्कूल से निकाल दिया

जिसके उसके माता पिता ने उसका दाखिला गाँव से बाहर एक बड़े स्कूल में करवा दिया

उस स्कूल में एक नियम था की सब बच्चों को क्लास शुरू होने से फेले 10 मिनट तक मेडिटेशन करना पड़ता था

लड़के को इस बात का नहीं पता था वो लड़का जब पहले दिन अपने स्कूल गया

तो उसके टीचर ने उससे कहा की तुम्हें भी बाकी बच्चों की तरह पहले मेडिटेशन करनी पड़ेगी

वो लड़का तयार हो गया और बाकी बच्चों के साथ मेडिटेशन करने के लिए बैठे गया

वो जमीन पर बैठ गया और अपनी आंखे बंद करके मेडिटेशन करने लगा

लेकिन 2 मिनट बाद ही उसकी आंखे खुल गई

क्योंकि उसे खुच दूसरे बचो की बातों की आवाजे सुनाई दे रही थी

वो इटिनी आवाज में मेडिटेशन नहीं कर पा रहा था जिसके कारण उसे बहुत गुस्सा आ गया

बेस्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी –

फिर 2-3 दिन ऐसा ही चलता गया वो मेडिटेशन न कर पाया तथा गुस्से में अपने टीचर के पास गया और उन्हे कहा की इतने शोर में वो मेडिटेशन नहीं कर सकता

उस स्कूल के पास ही एक नदी भी थी तो टीचर ने कहा की तुम उस नदी के पास जाकर मेडिटेशन करो वहाँ तुम्हें कोई परेशान नहीं करेगा

अगले दिन वो लड़का नदी के पास मेडिटेशन करने गया जैसे ही वो मेडिटेशन करने को बैठा तो एक आदमी अपने कुत्ते को लेकर वहाँ आ गया

कुत्ते की भोंकने की आवाज से वो परेशान हो गया और मेडिटेशन नहीं कर पाया उसे बहुत गुस्सा आया तो वो उस कुत्ते के मालिक के साथ झगड़ने लगा

लेकिन वो कुत्ते का मालिक रोज उस कुत्ते को उस नदी के पास लेकर आता

जिससे की वो लड़का मेडिटेशन नहीं कर पाता फिर उस लड़के ने सोच की

क्यों न वो नदी के बीच जा कर मेडिटेशन करे जिससे की कोई उसे परेशान नहीं करेगा

फिर वो एक नाव पर बैठ गया और उस नाव को नदी के बीच ले गया

अब वो आराम से मेडिटेशन कर सकता था उसे कोई परेशान करने वाला नहीं था अब वो रोज नदी के बीच में जाकर मेडिटेशन करता

एक दिन वो नदी के बीच में मीडीऐशन कर रहा था की उसे पानी के आवाज आई उसने आँख खोल के देखा तो एक नाव उसकी तरफ आ रही थी

लेकिन उसे पता नहीं चल रहा था की नाव में कौन है उसे बहुत गुस्सा आया और उसने उस नाव पे स्वर लोगों को बुरा बला बोलने लगा

Long Emotional story in Hindi –

वो नाव उसकी नाव से आकार टकरा गई जिससे उसकी नाव डूबने लगी वो जल्दी से दूसरी नाव पर चड़ गया उसने देखा की उस नाव पर कोई भी नहीं था उसका गुस्सा भी शांत हो गया वो नाव लेकर किनारे पर आ गया

फिर एक आदमी उसके पास आया उसने सोचा की वो नाव उसकी है उसे बहुत गुस्सा आया और वो उसे बुरा बला बोलने लगे लेकिन उस आदमी ने कहा की वो तू उससे सिर्फ पता पूछने आया था वो नाव उसकी नहीं थी

उस लड़के का गुस्सा शांत हो गया फिर वो उस नाव के मालिक को ढूँढने लगा उसने लोगों से इस नाव के बारे में पूछा

तो लोगों ने बताया की ये नाव यही नदी पर बनी रहित है शायद हवा के कारण इसकी रस्सी खुल गई होगी जिससे ये तुम्हारे पास आ गई

ये बात सुनकर लड़के का गुस्सा बिल्कुल गायब हो गया और वो सोचने लगा की जब मैंने इस नाव को अपनी अरु आते देखा था तो मुझे बहुत गुस्सा आया था

लेकिन जब पता चला की इसमे कोई नहीं है तो मेरा गुस्सा शांत हो गया था

जब वो आदमी मुझे मिला  मुझे लगा की ये नाव उस आदमी की है

तो मुझे फिर से उसपर बहुत गुस्सा आ गया था

लेकिन जब उसने कहा की ये उसकी नाव नहीं है तो मेरा गुस्सा शांत हो गया था और अब जब मुझे पता चल गया है की नाव हवा के कारण मेरे पास आई है तो मेरा गुस्सा गायब हो गया

सिख

इस कहानी से हमे ये सिख मिलती है की हमारे साथ भी ऐसा ही होता है जब हमरे साथ कोई गलत चीज होती है अरु वो चीज किसी इंसान के कारण होती है

तो हम अपना गुस्सा उस इंसान के ऊपर तो निकाल लेते है लेकिन जब वही चीज हमारे साथ किसी प्रकर्तिक कारण से होती है तो हमारा गुस्सा गायब हो जाता है

इसलिए जब भी आपको कभी किसी इंसान के कारण गुस्सा आए तो ये सोचना की यदि इसका कारण प्रकृति होती तो आप क्या करते

Conclusion –

आशा करते है दोस्तों की आपको हमरी ये पोस्ट Emotional motivational story in Hindi पसंद आई होगी हमारी इस वेबसाईट पर और भी कई Motivational कहानिया है आप उन्हे भी पढ़ सकते है उन सब को पड़कर आपको बहुत ही अच्छी सिख मिलेगी

Also Read This –

1.Motivational Short Stories in Hindi

2.Real life inspirational stories in Hindi

3.Short Motivational Stories in Hindi

4.Heart Touching Motivational stories in Hindi

5. प्रेरणादायक कहानिया हिंदी में 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top