बोअर बकरी के इन तथ्यों तथा फ़ायदों के बारे में आप जानते नहीं होंगे

भारत में बकरी पालन तो शुरू से होता आ रहा है

बकरियो की कुछ नसले तो बहुत ही लाभकारी होती है उन्ही में से है एक Boer नस्ल की बकरी

आज हम जानने वाले है बोअर बकरी के बारे में जो विदेशों में सबसे ज्यादा पाली जाती है

बोअर बकरी को ज्यादातर दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया जैसे देश के लोग पालते है

बोअर बकरी को 1900 की शूरवात में सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में विकसित किया गया था

अपको जानकार हैरानी होगी की इन बकरियों को दूध के उत्पादन की जगह इनके मांस के लिए ज्यादा पाला जाता है

इस बकरी का नाम अफ्रीकी शब्द बोअर से लिया गया है जिसके मलतब किसान होता है

बोअर बकरी के पैर बहुत भारी होते है तथा यह वजन में भी काफी भारी और मोटी होती है

आपकी जानकारी के लिए बता दे की बोअर नस्ल की बकरिया बहुत जल्दी बीमार हो जाती है

इन बकरियों का वजन लगभग 110 से 135 किलोग्राम के बीच होता है